Ahmad Faraz Shayari – दुनीया का भी

दुनीया का भी अज़ीब दस्तूर है “फराज़”,
बेवफाई करो तो रोते हैं, वफा करो तो रुलाते हैं