Ahmad Faraz Shayari – दीवार क्या गिरी मेरे

दीवार क्या गिरी मेरे कच्चे मकान की फ़राज़
लोगों ने मेरे घर से रास्ते बना लिए