Ahmad Faraz Shayari – तुम मुझे रूह में

तुम मुझे रूह में बसा लो “फराज़”,
दिल-ओ-जान के रिशते तो अकसर टूट जाया करते हैं