Ahmad Faraz Shayari – गिला करें तो कैसे

गिला करें तो कैसे करें फ़राज़
वो लातालुक़ सही मगर इंतिखाब तो मेरा है