Ahmad Faraz Shayari – अजब चराग हूँ

अजब चराग हूँ दिन रात जल रहा हूँ “फराज़”,
मैं थक गया हूँ हवा से कहो बुझाये मुझे