Ahmad Faraz 2 Lines Shayari – माना कि तुम गुफ़्तगू के

माना कि तुम गुफ़्तगू के फन में माहिर हो फ़राज़
वफ़ा के लफ्ज़ पे अटको तो हमें याद कर लेना