पूरी जिंदगी हम इसी बात में गुजार देते हैं कि “चार लोग क्या कहेंगे”,

और अंत में चार लोग बस यही कहते हैं कि “राम नाम सत्य है”..