2 Lines Hindi Shayari – ये जब्र भी देखा

ये जब्र भी देखा है तारीख़ की नज़रों ने
लम्हों ने ख़ता की थी सदियों ने सज़ा पाई