2 Lines Hindi Shayari – मुझे तो ख़ैर वतन

मुझे तो ख़ैर वतन छोड़ कर अमाँ न मिली
वतन भी मुझ से ग़रीब-उल-वतन को तरसेगा