2 Lines Hindi Shayari – जागता हूँ मैं एक

जागता हूँ मैं एक अकेला दुनिया सोती है
कितनी वहशत हिज्र की लम्बी रात में होती है