2 Lines Hindi Shayari – चराग़ घर का हो

चराग़ घर का हो महफ़िल का हो कि मंदिर का
हवा के पास कोई मस्लहत नहीं होती