2 Lines Hindi Shayari – काँटों से गुज़र जाता हूँ

काँटों से गुज़र जाता हूँ दामन को बचा कर
फूलों की सियासत से मैं बेगाना नहीं हूँ