हिंदी शायरी 2 लाइन – सोचा था घर बना कर

सोचा था घर बना कर बैठुंगा सुकून से…
पर घर की ज़रूरतों ने मुसाफ़िर बना डाला !!