हिंदी शायरी 2 लाइन – बस…कंठ ही

बस…कंठ ही हमारा नीला नही है …..
वरना ..जहर तो हमने भी कम नही पिया………..