हिंदी शायरी ४ पंक्ति में – ये कफ़न ये जनाजे



ये कफ़न,
ये जनाजे,
ये कबर…

रस्म-ऐ-दुनिया है दोस्त,
मर तो इंसान तब ही जाता है
जब याद करने वाला कोई न हो…


....कुछ उम्दा शेरो शायरी…इन्हे भी पढ़े…


Leave a Reply