हिंदी शायरी २ पंक्ति में – मुफ्त में नहीं आता

मुफ्त में नहीं आता,यह शायरी का हुनर….

इसके बदले ज़िन्दगी हमसे,
हमारी खुशियों का सौदा करती है…!!