हिंदी शायरी २ पंक्ति में – फिर कहीं से दर्द

फिर कहीं से दर्द के सिक्के मिलेंगे:
ये हथेली आज फिर खुजला रही है।