शायरी २ लाइन में – तेरे रुखसार से ही जल जाती है

तेरे रुखसार से ही जल जाती है सिगरेट मेरी,

इस आतिशी हुस्न ने माचिस की बचत कर दी !!