दो लाइन में हिंदी शायरी – सुरज ढलते ही

सुरज ढलते ही रख दिये उसनें मेरे होठो पर होठं,

इश्क का रोजा था और गज़ब की ईफतारी थी…