दो लाइन में हिंदी शायरी – मुझे ही नहीं रहा शौक

मुझे ही नहीं रहा शौक ए मोहब्बत वरना,

तेरे शहर की खिड़कियां इशारे अब भी करती हैं ।