दो लाइन में हिंदी शायरी – ठहर सके जो

ठहर सके जो …….. लबों पे हमारे,
हँसी के सिवा, है मजाल किसकी..