दो लाइन में हिंदी शायरी – जी भर के जीलो

जी भर के जीलो इन हसी पलो को जनाब।
क्योंकी….
फीर लौटके वो दोस्ती के जमाने नहीं आते।